अमृतसर एयरपोर्ट से 9 डोमेस्टिक फ्लाइट्स का संचालन होगा, हर यात्री को रहना पड़ेगा 14 दिन के एकांतवास में

अमृतसर एयरपोर्ट से 9 डोमेस्टिक फ्लाइट्स का संचालन होगा, हर यात्री को रहना पड़ेगा 14 दिन के एकांतवास में

अमृतसर. पंजाब में सोमवार से घरेलू उड़ानें शुरू हो रही हैं। असल में कोरोना संकट के कारण पिछले 2 महीने से देशभर में हवाई सेवाएं बंद पड़ी थी। बीते दिनों इन्हें 25 मई से दोबारा शुरू करने के निर्देश जारी हुए थे। इसी के साथ पंजाब के अमृतसर स्थित श्री गुरु रामदास जी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से भी सोमवार से 9 डोमेस्टिक फ्लाइट्स का संचालन किया जाएगा। ये फ्लाइट्स देश के अलग-अलग शहरों में जाएंगी। एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए मास्क और उनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना जरूरी होगा। साथ ही एयरपोर्ट में यात्रियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजेशन का प्रबंध होना भी जरूरी है।
केंद्रीय और राज्य सरकार की तरफ से घरेलू उड़ानें चलाने की मंजूरी के बाद 25 मई यानि कल से हवाई यात्रा शुरू होगी। इन उड़ानों को अलग-अलग फेज के आधार पर शुरू किया जाएगा। इसके अलावा कई तरह के दिशा-निर्देशों का पालन भी करना जरूरी होगा। एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए मास्क और उनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना जरूरी होगा। साथ ही एयरपोर्ट में यात्रियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजेशन का प्रबंध होना भी जरूरी है। एयरपोर्ट पर कई स्थानों पर पीपीई किट्स का प्रबंध की किया जाएगा। यात्री को अपने फोन पर आरोग्य सेतु ऐप्प अनिवार्य रूप से डाउनलोड करना।
दूसरी तरफ देश में से सबसे अधिक 90 प्रतिशत रिकवरी दर होने के बावजूद संतुष्ट होने के दावे को रद्द करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि घरेलू उड़ानों, रेलगाड़ियों और बसों के द्वारा राज्य में आने वाले हर व्यक्ति को लाजमी तौर पर 14 दिन के लिए घरेलू एकांतवास में रहना पड़ेगा।
फेसबुक पर ‘कैप्टन को सवाल’ नाम के लाइव प्रोग्राम के दौरान सवालों का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में दाखिल होने वालों की जांच राज्य और जिलों के प्रवेश रास्तों के साथ-साथ रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डों पर की जाएगी। जिन किसी में भी लक्षण पाए जाएंगे, उसे संस्थागत एकांतवास में रखा जाएगा, जबकि बाकी लोगों को दो हफ्तों के लिए घर में एकांतवास में रहना होगा।
कैप्टन ने कहा कि रैपिड टेस्टिंग टीमें घरों में एकांतवास में रखे व्यक्तियों की जांच करेंगी, जबकि लक्षण वाले व्यक्तियों की विस्तृत जांच अस्पतालों या अलगाव केंद्रों में की जाएगी। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि उनकी सरकार विश्व या मुल्क के किसी भी हिस्से की तरफ से टैस्ट संबंधी जारी किए सर्टिफिकेट पर भरोसा नहीं करेगी।
एक अन्य सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहरी मुल्कों और राज्यों से वापस आ रहे पंजाबियों के यहां लौटने से रोग के फैलाव की पूरी आशंका है, लेकिन इसकी रोकथाम के लिए राज्य कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहा। उन्होंने स्पष्ट रूप में कहा, ‘मैं पंजाब में इस रोग को और फैलने नहीं होने दूंगा।’

सच की शक्ति

सच की शक्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
shares
Wordpress Social Share Plugin powered by Ultimatelysocial
WhatsApp chat