चीन से विवाद के बीच LAC पर आनन-फानन में की गई ये खास तैयारी, सैनिकों को मिलेगी मदद

चीन से विवाद के बीच LAC पर आनन-फानन में की गई ये खास तैयारी, सैनिकों को मिलेगी मदद

दिल्ली:जून 2020 में गलवान घाटी की घटना के बाद से भारत और चीन के बीच सीमा विवाद बेहद गंभीर हो गया है। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर जारी इस विवाद के बीच ठंडा मौसम सैनिकों के लिए सबसे बड़ी चुनौती होता है। ऐसे में अब भारतीय सेना ने इन इलाकों में सैनिकों के लिए बड़े स्तर पर इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर लिए हैं। एलएसी और नॉर्थ ईस्ट के इलाकों में सेना ने ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है जिससे जवानों को सर्दियों के मौसम में -45 डिग्री में भी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। हालांकि ये काम पूरे 5 सालों में किया जाना था लेकिन तेजी दिखाते हुए इसे एक साल के भीतर पूरा किया गया। इस वक्त जितने सैनिक लद्दाख में तैनात हैं उनसे दोगुनी संख्या इन इंफ्रास्ट्रक्चर में आराम से रह सकती है।

सेना के लिए चुनौती था मौसम

बता दें कि सीमा विवाद की शुरुआत से ही भारतीय सैनिकों के लिए सर्दी का मौसम सबसे बड़ा चैलेंज माना जाता रहा है। यहां पारा -45 डिग्री तक गिर जाता है। ऐसे में तैनात जवानों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता था। लेकिन जो नए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किए गए हैं वो किसी प्लास्टिक के घर जैसे लगते हैं। इन स्ट्रक्चर्स में जवानों के रहने के लिए सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। पूर्वी लद्दाख के इलाके में भले ही डिस्इंगेजमेंट की प्रक्रिया हुई हो लेकिन चीन की चालबाजियों देखते हुए भारत की तरफ से पूरी सतर्कता बरती जा रही है।

अतिरिक्त सैन्य बल के लिए भी तैयारी

खबर है कि इंजीनियरिंग कोर अभी भी एलएसी पर ऐसे ढांचों के निर्माण में लगी हुई है ताकि जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त सैन्य बल वहां से अभियान चला सकें और रह सकें। भारत एलएसी पर सभी सेक्टरों में सड़क ढांचे विकसित करने में भी जुटा है। इधर, रक्षा मंत्रालय भी जल्द ही बीआरओ को नई सड़क पर कनेक्टिविटी के लिए 4.5 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने की अनुमति देने के प्रस्ताव को मंजूरी देने के लिए तैयार है।

LAC के पास फिर अभ्यास करने पहुंची चीनी सेना

इधर, एलएसी के पास चीन ने एक बार फिर से हरकत शुरू कर दी है। चीनी सेना पूर्वी लद्दाख के डेप्थ इलाकों में अपनी ओर सैन्य अभ्यास कर रही है। वहीं, अभ्यास को देखते ही भारतीय सेना भी पूरी तरह से अलर्ट हो गई है और किसी भी हरकत का जवाब देने को तैयार है। हाल ही में सूत्रों ने बताया था कि चीनी कई सालों से इन इलाकों में आ रहे हैं, जहां वे गर्मी के समय में अभ्यास करते हैं। पिछले साल भी, वे अभ्यास की आड़ में इन क्षेत्रों में आए थे और यहां से पूर्वी लद्दाख की ओर आक्रामक रूप से चले गए थे। चीनी सैनिक अपने पारंपरिक इलाकों में हैं और कुछ स्थानों में वे 100 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद हैं। वे अपने क्षेत्र में बंकरों का निर्माण करते देखे गए हैं और अपने ढांचे को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं।

बीते साल हुआ का खूनी संघर्ष

बता दें चीन के साथ विवाद जून 2020 में गलवान घाटी की घटना के बाद बेहद गंभीर हो गया था। इस घटना में कई जवानों की शहादत के बाद भारत ने सख्त रुख अख्तियार किया था। सीमा विवाद के बीच भारत की तरफ से चीन को स्पष्ट संदेश दिया गया कि सीमाओं पर अशांति के साथ दोनों देशों के संबंध सामान्य नहीं हो सकते।

सच की शक्ति

सच की शक्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
shares
Wordpress Social Share Plugin powered by Ultimatelysocial
WhatsApp chat